क्या इख्तिलाफ है चाँद को सूरज से , जो ये अँधेरे में निकल पड़ता है ( Chand Ki Kahani )

क्या इख्तिलाफ* है चाँद को सूरज से , जो ये अँधेरे में निकल पड़ता है … खुद ढलती रात में रहकर रोशन इस जहाँ को करता है …. शायद ड्यूटी अपनी रात में कर दिन में आराम करता है … या दिन में सूरज से  जल रात में जग रोशन करने निकलता है …. अजब […]

Read More क्या इख्तिलाफ है चाँद को सूरज से , जो ये अँधेरे में निकल पड़ता है ( Chand Ki Kahani )

Ab Aur Kya Hona Baki Hai ?

ये कुछ पंक्तियाँ कश्मीर में हो रहे निर्दय क्रत्यो के लिए , उन लोगो के लिए जो रोज कुछ ना कुछ निर्दायता, कायरता दिखा कर हमारे देश के सिपाहियों , पुलिस जवानों को मार रहे है, रोज ये खबर देखने को मिल रही है की आज इस जवान की हत्या हुई तो कल उसकी, आखिर […]

Read More Ab Aur Kya Hona Baki Hai ?

Ye Ishq Hai Kya ?

Barish ke pani ko tarse Zameen ko pucho, ye ishq hai kya… ( बारिश के पानी को तरसे जमीन को पूछो, ये इश्क है क्या …) Pani ki boond ko tarse pyaase ko pucho, ye ishq hai kya… ( पानी की बूँद को तरसे प्यासे को पूछो, ये इश्क है क्या …) Khane ke dane […]

Read More Ye Ishq Hai Kya ?

जीवन की इस आपाधापी में, मैं भागता रहा कुछ पाने को

यें पंक्तियाँ हम सभी के लिए जो जीवन की इस आपाधापी में भाग रहे है पैसो के लिए, संघर्ष कर रहे है रोजमर्रा की जिन्दगी में ख़ुशी से रहने के लिए और सन्देश है आने वाली पीडी के लिए, बच्चो के लिए की वो इस आपाधापी में ना फसे और वही करे जो करना चाहता […]

Read More जीवन की इस आपाधापी में, मैं भागता रहा कुछ पाने को

Tujhe Dekhta Hu To Man hi Man Kuch Keh Jata Hoon

Tujhe dekhta hoon to man hi man kuch keh jata hoon…                      Par tu sunti nahi….   Aankhon hi aankhon se dil ki baat keh jata hoon…                     Par tu Samjhti Nahi….   Tu janti hai tujhe pyar Karta hoon…                      Par tu manti nahi….   Mere dil,jajbaat se kheli tu kai saal…                   […]

Read More Tujhe Dekhta Hu To Man hi Man Kuch Keh Jata Hoon

Ye Safar Hai Jindgi Kaa

  chalte rehna hai iss raah par ye safar hai jindgi kaa…               jo ruke wo haare yahi to niyam hai jindgi kaa….   har kadam yaha Eham hai, jo badaye hai shaan se…. kadam  wahi dubayega jo badaya galat iman se…   kaante hai jaruri raste me hosla badane ko…               jo dar gaya […]

Read More Ye Safar Hai Jindgi Kaa

Rona padta hai kabhi muskurane ke liye, Khona padta hai kuch, kuch paane ke liye

  Rona padta hai kabhi muskurane ke liye…         Khona padta hai kuch, kuch paane ke liye…. ( रोना पड़ता है कभी मुस्कुराने के लिए… खोना पड़ता है कुछ, कुछ पाने के लिए…. ) Dil bikhar jate hai jab kisi  ka dil todo to… Dard bhulana padta hai, ishq pane ke liye…. ( दिल बिखर […]

Read More Rona padta hai kabhi muskurane ke liye, Khona padta hai kuch, kuch paane ke liye

Har din Intezaar Me Beet Gaya Wakth

  Har din intejaar me beet gaya wakth…                 har wakth yaad karte rahe unhe…. Kuch umeed thi itne dino se… Us umeed par jeete rah…. Unke bina dard me marte rahe…               Par na wo aaye na hum unse kuch keh paye….   Ek jhalak pane ko unko hajaaro chakkar lagaye… unki yaadon ke […]

Read More Har din Intezaar Me Beet Gaya Wakth