Teri Khushboo, wo teri Saanse… Teri mehak, wo teri Baaten…

तेरी खुशबू, वो तेरी साँसें … तेरी महक, वो तेरी बातें … वो ढलती शाम की यादें … वो लम्बी लम्बी ना काटने वाली रातें … पुराने वो लम्हे … हमारी वो मुलाकातें … तेरी खुशबू, वो तेरी साँसें … तेरी महक, वो तेरी बातें …  खुद में डुबाती थी … वो कुछ कहती तेरी […]

Read More Teri Khushboo, wo teri Saanse… Teri mehak, wo teri Baaten…

Ajab ye jindgi ka daur hai, inshan yaha shant hai online poora shor hai

Ajab ye jindgi ka daur hai .. Inshan yaha shant hai online poora shor hai …. (अजब ये जिन्दगी का दौर है … इन्सान यहाँ शांत है ऑनलाइन पूरा शोर है ….) Der raat chal rahi mobile par ungliyaan yahan .. Badal gaye rishte ho gaye friends-followers ,Kiya na kisi ne ispar gaur hai …. […]

Read More Ajab ye jindgi ka daur hai, inshan yaha shant hai online poora shor hai

क्या इख्तिलाफ है चाँद को सूरज से , जो ये अँधेरे में निकल पड़ता है ( Chand Ki Kahani )

क्या इख्तिलाफ* है चाँद को सूरज से , जो ये अँधेरे में निकल पड़ता है … खुद ढलती रात में रहकर रोशन इस जहाँ को करता है …. शायद ड्यूटी अपनी रात में कर दिन में आराम करता है … या दिन में सूरज से  जल रात में जग रोशन करने निकलता है …. अजब […]

Read More क्या इख्तिलाफ है चाँद को सूरज से , जो ये अँधेरे में निकल पड़ता है ( Chand Ki Kahani )

Sukoon milta hai lafz kaagaz par utar kar, Cheekh bhi leta hoon aawaj bhi nahi hoti…

Once again i expand the view on the Lines written by Mr.Piyush Mishra. Above lines are my favorite and explains everything about the art of poet. Sukoon milta hai lafz kaagaz par utar kar, Cheekh bhi leta hoon aawaj bhi nahi hoti… (सुकून मिलता है लफ्ज़ कागज पर उतार  कर, चीख भी लेता हूँ आवाज […]

Read More Sukoon milta hai lafz kaagaz par utar kar, Cheekh bhi leta hoon aawaj bhi nahi hoti…

Na jane kab kharch ho gaye wo lamhe, pata hi na chala, jo bacha kar rakhe the jeene ke liye – A CA STUDENT’s STORY

The above mentioned lines are written by the Famous Writer, actor, composer , i should say all rounder MR.Piyush Mishra. I just expanding it into my thoughts in my way. ( सुचना – इस कविता का किसी विशेष व्यक्ति, समूह,  जाती या वास्तविकता से सीधा सम्बन्ध हो सकता है, इसे अपने जिम्मेदारी पर ही पढ़े […]

Read More Na jane kab kharch ho gaye wo lamhe, pata hi na chala, jo bacha kar rakhe the jeene ke liye – A CA STUDENT’s STORY

Ye Ishq Hai Kya ?

Barish ke pani ko tarse Zameen ko pucho, ye ishq hai kya… ( बारिश के पानी को तरसे जमीन को पूछो, ये इश्क है क्या …) Pani ki boond ko tarse pyaase ko pucho, ye ishq hai kya… ( पानी की बूँद को तरसे प्यासे को पूछो, ये इश्क है क्या …) Khane ke dane […]

Read More Ye Ishq Hai Kya ?

Itne Khass na hona tum, Khudko kho na dena tum ( इतने खास ना होना तुम, खुदको खो ना देना तुम )

Itne Khass na hona tum, Khudko kho na dena tum…. ( इतने खास ना होना तुम, खुदको खो ना देना तुम….  )   Dekhna, chahna, kho dena ek khel hai, isme itna na khona tum… Itne khass na hona tum, Khudko kho na dena tum…. ( देखना, चाहना, खो देना एक खेल है, इसमें इतना […]

Read More Itne Khass na hona tum, Khudko kho na dena tum ( इतने खास ना होना तुम, खुदको खो ना देना तुम )